Tera Bhawan Saja\ Maa Durga Bhajan By Lakhbir Singh Lakkha

0
59

Tera bhawan saja jin phoolon se, Tera bhawan saja jin phoolon se,

Lyrics:तेरा भवन सज़ा

तेरा भवन सज़ा जिन फूलों से, तेरा भवन सज़ा जिन फूलों से,
उन फहोलों की महिमा ख़ास है मा, बड़ा गर्व है उनको किस्मेट पर,
तेरा हुआ जो उनमे निवास है मा,
तेरा भवन सज़ा जिन फूलों से, तेरा भवन सज़ा जिन फूलों से,
उन फहोलों की महिमा ख़ास है मा, बड़ा गर्व है उनको किस्मेट पर,
तेरा हुआ जो उनमे निवास है मा,

उन फूलों को देवता नमन करे तेरी माला बनी जिन फूलों की,
उन फूलों को देवता नमन करे तेरी माला बनी जिन फूलों की,
तू झूलती जिनमे माला पहें क्या शान है मा उन झूलों की,
तू झूलती जिनमे माला पहें क्या शान है मा उन झूलों की,
कभी वैसी दया हम पर होगी, कभी वैसी दया हम पर होगी,
तेरे भागत्ॉ को पूरी आश् है मा,
तेरा भवन सज़ा जिन फूलों से, तेरा भवन सज़ा जिन फूलों से,
उन फहोलों की महिमा ख़ास है मा, बड़ा गर्व है उनको किस्मेट पर,
तेरा हुआ जो उनमे निवास है मा,

कुच्छ फहोल जो सॅकी निष्ठा के तेरी पिंडी पे चढ़े,
कुच्छ फहोल जो सॅकी निष्ठा के तेरी पिंडी पे चढ़े,
मा तेरी महेक मई उनकी महेक घुली यह भाग्यवान है सबसे बड़े,
मा तेरी महेक मई उनकी महेक घुली यह भाग्यवान है सबसे बड़े,
हर भाग्या की रेखा बदलने की, हर भाग्या की रेखा बदलने की,
दिव्या शक्ति तुम्हारे पास है मा,
तेरा भवन सज़ा जिन फूलों से, तेरा भवन सज़ा जिन फूलों से,
उन फहोलों की महिमा ख़ास है मा, बड़ा गर्व है उनको किस्मेट पर,
तेरा हुआ जो उनमे निवास है मा,

ही नित गगन की छत से तेरी मंदिरो पे फूल जो बरसे मा
उन फूलों को माता लगाने से तेरे नाम के दीवाने तरसे मा,
उन फूलों को माता लगाने से तेरे नाम के दीवाने तरसे मा,
लक्खा पे रहेगी तेरी दया, लक्खा पे रहेगी तेरी दया,
निर्दोष को यह विस्वास है मा,
तेरा भवन सज़ा जिन फूलों से, तेरा भवन सज़ा जिन फूलों से,
उन फहोलों की महिमा ख़ास है मा, बड़ा गर्व है उनको किस्मेट पर,
तेरा हुआ जो उनमे निवास है मा,

तेरा भवन सज़ा जिन फूलों से, तेरा भवन सज़ा जिन फूलों से,
उन फहोलों की महिमा ख़ास है मा, बड़ा गर्व है उनको किस्मेट पर,
तेरा हुआ जो उनमे निवास है मा,
तेरा भवन सज़ा जिन फूलों से, तेरा भवन सज़ा जिन फूलों से,
उन फहोलों की महिमा ख़ास है मा, बड़ा गर्व है उनको किस्मेट पर,
तेरा हुआ जो उनमे निवास है मा,