fbpx
Home / Ravindra Jain Bhajan

Ravindra Jain Bhajan

Aise Hain Mere Ram ऐसे हैं मेरे राम- Ram Bhajan By Ravindra Jain

Aise Hain Mere Ram Lyrics:ऐसे हैं मेरे राम ऐसे हैं मेरे राम, ऐसे हैं मेरे राम विनय भरा ह्रदय करें सदा जिसे प्रणाम ऐसे हैं मेरे राम, ऐसे हैं मेरे राम ह्रदय कमल, नयन कमल सुमुख कमल, चरण कमल कमल के कुञ्ज, तेज कुञ्ज छवि ललित ललाम ऐसे हैं मेरे …

Read More »

Aise Hai Mere Ram ऐसे हैं मेरे राम- Ram Bhajan By Ravindra Jain

Aise Hai Mere Ram Lyrics: ऐसे हैं मेरे राम ऐसे हैं मेरे राम, ऐसे हैं मेरे राम विनय भरा ह्रदय करें सदा जिसे प्रणाम ऐसे हैं मेरे राम, ऐसे हैं मेरे राम ह्रदय कमल, नयन कमल सुमुख कमल, चरण कमल कमल के कुञ्ज, तेज कुञ्ज छवि ललित ललाम ऐसे हैं …

Read More »

Sitaram Sitaram kahiye सीताराम कहिये- Ram Bhajan By Ravindra jain

Sitaram Sitaram kahiye Lyrics: सीताराम कहिये सीताराम सीताराम सीताराम कहिये, जाहि विधि राखे राम, ताहि विधि रहिये॥ मुख में हो राम नाम, राम सेवा हाथ में, तू अकेला नहिं प्यारे, राम तेरे साथ में। विधि का विधान जान हानि लाभ सहिये जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिये॥ सीताराम सीताराम …

Read More »