Bholenath Hai Bade Manmauji भोलेनात है बड़े मनमौजी- Shiv Bhajan

0
154

Bholenath hai bade manmauji ki arey more Ram

Lyrics:भोलेनात है बड़े मनमौजी की अरे मोरे राम

भोलेनात सा देव नही, रहे ये मेी चूर,
जो शिव का पूजन करे, पाए मुक्ति ज़रूर,
महाराजा के नाथ के, नथो के है नाथ,
जिसपे हांत महादेव का, वो कैसे रहे अनाथ,

भोलेनात है बड़े मनमौजी की अरे मोरे राम
भंग धतूरे से हो जाए राज़ी की अरे मोरे राम
भोलेनात है बड़े मनमौजी की अरे मोरे राम
भंग धतूरे से हो जाए राज़ी की अरे मोरे राम
शिव की अनेको पार है धाम की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,
,
रक्षक ये साधु सॅंटो के, की अरे मोरे राम,
शिव ही दाता है हम भागातो के, की अरे मोरे राम,
करे सभी के पूरण काम की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का है प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,
शिव की अनेको पार है धाम की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,
भोलेनात है बड़े मनमौजी की अरे मोरे राम
भंग धतूरे से हो जाए राज़ी की अरे मोरे राम

बड़े दयालु है शिव भंडारी की अरे मोरे राम,
भरते झोली यह डमरू धरी की अरे मोरे राम,
चमत्कार है इनके समान, की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का है प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,
शिव की अनेको पार है धाम की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,
भोलेनात है बड़े मनमौजी की अरे मोरे राम
भंग धतूरे से हो जाए राज़ी की अरे मोरे राम

दक्ष प्रजापति करे अभिमान की अरे मोरे राम,
कटा शीश हो गये बेजान की अरे मोरे राम,
भुगता दक्ष ने यह परिणाम, की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का है प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,
शिव की अनेको पार है धाम की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,
भोलेनात है बड़े मनमौजी की अरे मोरे राम
भंग धतूरे से हो जाए राज़ी की अरे मोरे राम

करे देवगन शिव का ध्यान की अरे मोरे राम,
दक्ष को दिया है प्राण का दान की अरे मोरे राम,
शिव संकर है बाल के तान, की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का है प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,
शिव की अनेको पार है धाम की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,
भोलेनात है बड़े मनमौजी की अरे मोरे राम
भंग धतूरे से हो जाए राज़ी की अरे मोरे राम

शिव की जटाओ मेी खेले गंगा की अरे मोरे राम,
भागीरथ को कर दिया चंदा की अरे मोरे राम,
गंगाधर पद गया है नाम की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का है प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,
शिव की अनेको पार है धाम की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,
भोलेनात है बड़े मनमौजी की अरे मोरे राम
भंग धतूरे से हो जाए राज़ी की अरे मोरे राम

पी गये विष ये पालनहारे की अरे मोरे राम,
हुए अचंभित सारे देवता की अरे मोरे राम,
नीलकंत हो गये सरनाम की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का है प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,
शिव की अनेको पार है धाम की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,
भोलेनात है बड़े मनमौजी की अरे मोरे राम
भंग धतूरे से हो जाए राज़ी की अरे मोरे राम,

भस्मासुर को दिया वरदान की अरे मोरे राम,
लीला रचे संकर भगवान की अरे मोरे राम,
मिटा दिया भसमा का नाम, की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का है प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,
शिव की अनेको पार है धाम की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,
भोलेनात है बड़े मनमौजी की अरे मोरे राम
भंग धतूरे से हो जाए राज़ी की अरे मोरे राम

भोलेनात है बड़े मनमौजी की अरे मोरे राम
भंग धतूरे से हो जाए राज़ी की अरे मोरे राम
भोलेनात है बड़े मनमौजी की अरे मोरे राम
भंग धतूरे से हो जाए राज़ी की अरे मोरे राम
शिव की अनेको पार है धाम की अरे मोरे राम,
जपलो शिव का प्यारा नाम, की अरे मोरे राम,