Tum Pag Pag Par\ Krishna Bhajan By Nanduji

Tum pag pag par samjhate hum phir bhi samajh na pate,

Lyrics: तुम पग पग पर

तुम पग पग पर समझते हम फिर भी समझ ना पाते,
यह कैसा दोष हुमारा, हम ग़लती करते जाते,
तुम पग पग पर समझते हम फिर भी समझ ना पाते,
यह कैसा दोष हुमारा, हम ग़लती करते जाते,
जाई श्री श्याम, श्री श्याम, श्री श्याम,
जाई श्री श्याम, श्री श्याम, श्री श्याम,

नादानी जी को जिलाए, यकुलता बढ़ती जाए,
बेरी मोहन मॅन मेरा, मुझे क्या क्या रंग दिखाए,
नादानी जी को जिलाए, यकुलता बढ़ती जाए,
बेरी मोहन मॅन मेरा, मुझे क्या क्या रंग दिखाए,
रंगो के अंग महल मेी ह्यूम नित नये सपने आते,
यह कैसा दोष हुमारा हम ग़लती करते जाते,
तुम पग पग पर समझते हम फिर भी समझ ना पाते,
यह कैसा दोष हुमारा, हम ग़लती करते जाते,
जाई श्री श्याम, श्री श्याम, श्री श्याम,
जाई श्री श्याम, श्री श्याम, श्री श्याम,

प्रभु निस्चे अटल बना दे विस्वास का रंग चढ़ा दे,
गन गओना मई तेरा, मेरे सारे दोष मितदे,
प्रभु निस्चे अटल बना दे विस्वास का रंग चढ़ा दे,
गन गओना मई तेरा, मेरे सारे दोष मितदे,
निर्बलता से मई हारा, मुझे क्यूँ ना सबल बनाते,
यह कैसा दोष हुमारा हम ग़लती करते जाते,
तुम पग पग पर समझते हम फिर भी समझ ना पाते,
यह कैसा दोष हुमारा हम ग़लती करते जाते,
जाई श्री श्याम, श्री श्याम, श्री श्याम,
जाई श्री श्याम, श्री श्याम, श्री श्याम,

प्रभु हार गया अब आओ, मुझे आकर सबल बनाओ,
दामन असुवान से भीगा नंदू यूँ ना आजमाओ,
प्रभु हार गया अब आओ, मुझे आकर सबल बनाओ,
दामन असुवान से भीगा नंदू यूँ ना आजमाओ,
है शरम ह्यूम प्रभु खुद पर हम फिर भी च्लते जाते,
यह कैसा दोष हुमारा हम ग़लती करते जाते,
तुम पग पग पर समझते हम फिर भी समझ ना पाते,
यह कैसा दोष हुमारा हम ग़लती करते जाते,
जाई श्री श्याम, श्री श्याम, श्री श्याम,
जाई श्री श्याम, श्री श्याम, श्री श्याम,

तुम पग पग पर समझते हम फिर भी समझ ना पाते,
यह कैसा दोष हुमारा, हम ग़लती करते जाते,
तुम पग पग पर समझते हम फिर भी समझ ना पाते,
यह कैसा दोष हुमारा, हम ग़लती करते जाते,
जाई श्री श्याम, श्री श्याम, श्री श्याम,
जाई श्री श्याम, श्री श्याम, श्री श्याम,
जाई श्री श्याम, श्री श्याम, श्री श्याम,
जाई श्री श्याम, श्री श्याम, श्री श्याम,